Barsaat Ke Mausam Mein /बरसात के मौसम में.

ये Song ( Najayaz ) फिल्म का है ये फिल्म 1995 में Release हुई थी. इस फिल्म को Mahesh Bhatt ने Direct किया है. Barsaat Ke Mausam Mein इस Song के Lyrics Sudarshan Faakir ने लिखे है और इस Song को Kumar Sanu, Roop Kumar Rathod ने गया है.

Barsaat Ke Mausam Mein Song Lyrics

Song  – Barasaat ke mausam mein

Film – Naajayaz

Singers –  Kumar Sanu , Roop kumar rathod 

Lyricist – Indeevar

Music – Anu Malik

Music label – Tips Music

Starring – Ajay Devgan, Juhi Chawala, Naseeruddin Shah

Release date – 17 March 1995

Director – Mahesh Bhatt

Barsaat Ke Mausam Mein Song Lyrics In Hindi

हूँ ….

बरसात के मौसंम में

हूँ तन्हाई के आलम में

बरसात के मौसंम में

हूँ तन्हाई के आलम में

मैं घर से निकल आया

बोतल भी उठा लाया

अभी जिंदा हूँ तो जि लेने दो

जि लेने दो

भरी बरसात में पी लेने दो

अभी जिंदा हूँ तो जि लेने दो

जि लेने दो

भरी बरसात में पी लेने दो

हूँ बरसात के मौसंम में

हूँ तन्हाई के आलम में

हूँ बरसात के मौसंम में

हूँ तन्हाई के आलम में

मैं घर से निकल आया

बोतल भी उठा लाया

अभी जिंदा हूँ तो जि लेने दो जि लेने दो

भरी बरसात में पी लेने दो

अभी जिंदा हूँ तो जि लेने दो जि लेने दो

भरी बरसात में पी लेने दो

मुझे टुकड़ों में नहीं जीना है

कतरा कतरा तो नहीं पीना है

मुझे टुकड़ों में नहीं जीना है

कतरा कतरा तो नहीं पीना है

हो… आज पैमाने हटा दो यारों

सारा मैखाना पिला दो यारों

मैंकदों में तो पिया करता हूँ

मैंकदों में तो पिया करता हूँ

चलती राहों में भी पी लेने दो

अभी जिंदा हूँ तो जि लेने दो जि लेने दो

भरी बरसात में पी लेने दो

मेरे दुश्मन है ज़माने के ग़म

बाद पीने के ये होंगे कम

मेरे दुश्मन है ज़माने के ग़म

बाद पीने के ये होंगे कम 

हो… जुल्म दुनियाँ के ना सेह पाऊंगा

बिना पिये आज ना रेह पाऊंगा

मुझे हालात से टकराना है

मुझे हालात से टकराना है

ऐसे हालात में पी लेने दो

अभी जिंदा हूँ तो जि लेने दो जि लेने दो

भरी बरसात में पी लेने दो

आज की शाम बड़ी बोजल है

आज की रात बड़ी कातील है

आज की शाम बड़ी बोजल है

आज की रात बड़ी कातील है

हो… आज की शाम ढलेगी कैसे

हो… आज की रात कटेगी कैसे

आग से आग बुझेंगी दिल की

आग से आग बुझेंगी दिल की

मुझे ये आग भी पी लेने दो

अभी जिंदा हूँ तो जि लेने दो जि लेने दो

भरी बरसात में पी लेने दो

हूँ बरसात के मौसंम में

हूँ तन्हाई के आलम में

बरसात के मौसंम में

तन्हाई के आलम में

मैं घर से निकल आया

बोतल भी उठा लाया

अभी जिंदा हूँ तो जि लेने दो जि लेने दो

भरी बरसात में पी लेने दो

अभी जिंदा हूँ तो जि लेने दो , जि लेने दो

भरी बरसात में पी लेने दो

अभी जिंदा हूँ तो जि लेने दो , जि लेने दो

भरी बरसात में पी लेने दो


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *