Tum agar saath dene ka vada karo Lyrics in Hindi & English / तुम अगर साथ देने का वादा करो.

tum agar saath dene ka vada karo ये Song फिल्म Hamraaz का है. इस Song को Sahir Ludhianvi ने लिखा है और इस गाने को गाया है Mahendra Kapoor ने और ये फिल्म
1967 में Release हुई थी. इस फिल्म का प्रोडक्शन और डायरेक्शन Baldev Raj Chopra ने किया है.

 tum agar saath dene ka vada karo

cast :

Actor / Actress Role
Sunil DuttKumar / S.N. Sinha
VimiMeena Verma
Raaj KumarCaptain Rajesh
Anwar HussainCaptain Mahendra

Song – तुम अगर साथ देने का वादा करो

Film – Hamraaz

Lyricist – Sahir Ludhianvi

Music – Ravi

Singer – Mahendra Kapoor

Director – B.R chopra

Music label – Saregama India Ltd.

{ tum agar saath dene ka vada karo Lyrics In Hindi }

तुम अगर साथ देने का वादा करो

मैं युँही मस्त नगमे लुटता रहूं

तुम मुझे देखकर मुस्कुराती रहो

मैं तुम्हें देखकर गीत गाता रहूं

तुम अगर साथ देने का वादा करो

मैं युँही मस्त नगमे लुटता रहूं

कितनें जलवे फिजाओं में बिखरे मगर

मैंने अबतक किसी को पुकारा नहीं

तुमको देखा तो नज़रें ये कहने लगीं

हमको चेहरे से हटना गवारा नहीं

तुम अगर मेरी नज़रों के आगे रहो

मैं हर एक शह से नज़रें चुराता रहूं

तुम अगर साथ देने का वादा करो

मैं युँही मस्त नगमे लुटता रहूं

मैंने ख्वाबों में बरसों तराशा जिसे

तुम वही संगए मर मर की तस्वीर हो

तुम ना समझो तुम्हारा मुकदर हूं मैं

मैं समझता हूं तुम मेरी तकदीर हो

तुम अगर मुझको अपना समझने लगो

मैं बहारों की महेफिल सजाता रहूं

तुम अगर साथ देने का वादा करो

मैं युँही मस्त नगमे लुटता रहूं

मैं अकेला बहुत देर चलता रहा

अब सफ़र जिंदगानी का कटता नहीं

जब तलक कोई रंगी सहारा ना हो

वक़्त काफिर जवानी का कटता नहीं

तुम अगर हम कदम बनके चलती रहो

मैं जमी पर सितारे बिछाता रहूं 

तुम अगर साथ देने का वादा करो

मैं युँही मस्त नगमे लुटता रहूं

तुम मुझे देखकर मुस्कुराती रहो

मैं तुम्हें देखकर गीत गाता रहूं

{tum agar saath dene ka vada karo Lyrics In English}

Tum agar saath dene ka vada karo

Main yunhi mast nagme lutata rahoon

Tum mujhe dekh kar muskurati raho

Main tumhein dekh kar geet gata rahoon

Tum agar saath dene ka vada karo

Main yunhi mast nagme lutata rahoon

Kitne jalve fizaon mein bikhre magar

Maine ab tak kisi ko pukara nahin

Tumko dekha to nazrein yeh kehne lagin

Humko chehre se hanta gawara nahin

Tum agar meri nazron ke aage raho

Main har ek sheh se nazrein churata rahoon

Tum agar saath dene ka vada karo

Main yunhi mast nagme lutata rahoon

Maine khwabon mein barson tarasha jise

Tum wahi sang e mar mar ki tasveer ho

Tum na samjho  tumhara muqaddar hun main

Main samajhta hunt um meri taqdeer ho

Tum agar mujhko apna samajhne lago

Main bahaaro ki mehfil sajaata rahoon

Tum agar saath dene ka vada karo

Main yunhi mast nagme lutata rahoon

Main akela bahut der chalta raha

Ab safar zindagani ka kat ta nahin  

Jab talak koi ranggi  sahara na ho

Waqt kaafir jawaani ka kat ta nahi

Tum agar humkadam banke chalti raho

Main zamein par sitaare bichhata rahoon

Tum agar saath dene ka vada karo

Main yunhi mast nagme lutata rahoon

Tum mujhe dekh kar muskurati raho

Main tumhein dekh kar geet gata rahoon

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *