yeh reshmi zulfein lyrics | ये रेशमी ज़ुल्फ़ें, ये शरबती आँखें.

ye reshmi zulfein lyrics in hindi | रेशमी जुल्फें शरबती आंखें
  • Song – Yeh Reshmi Zulfein 
  • Movie – Do Raaste
  • Starring – Rajesh Khanna, Bindu, Mumtaz, Balraj Sahni.
  • Director – Raj Khosla
  • Release date – December 5, 1969
  • Lyrics – Anand Bakshi
  • Music – Laxmikant , Pyarelal

Cast

Actor / Actress Role
Rajesh Khanna Satyen Gupta
Mumtaz Reena
Balraj Sahni Navendu Gupta
Bindu Neela Alopee Prasad
Prem chopra Birju Gupta
Veena Mrs. Gupta

ये Song Do Raaste इस फिल्म का है. इस फिल्म को Raj Khosla ने Direct किया है. इस फिल्म में Laxmikant, Pyarelal ने संगीत दिया है. ये फिल्म 05 Decmeber 1969 को रिलीज़ किया गया था. और इस फिल्म को best Lyricist – Anand bakshi For (Bindiya Chamkegi.) song के लिए Nominate किया गया था.

Yeh Reshmi Zulfein lyrics are written by Anand bakshi and the song is sung by Mohammed Rafi, Music is given by Laxmikant , Pyarelal. The music labeling Company is Saregama India Ltd. The song is from the movie Do Raaste released on December 5, 1969.

Yeh Reshmi Zulfen Yeh Sharbati aankhein Lyrics

Ye reshmi Zulfein
Yeh Sharbati aankhein
Inhe dekh kar jee rahe hain sabhi
Inhe dekh kar jee rahe hain sabhi

Ye reshmi Zulfein
Ye Sharbati aankhein
Inhe dekh kar jee rahe hain sabhi
Inhe dekh kar jee rahe hain sabhi

Jo yeh aankhe sharam se jhuk jayengi
Jo yeh aankhe sharam se jhuk jayengi
Sari baatein yahi bas ruk jaayengi
Chup rehna yeh afsana

Koi in ko naa baltana
Ke inhe dekhkar pee rahe hain sabhi
Inhe dekhkar pee rahe hai sabhi

Ye reshmi Zulfein
Ye Sharbati aankhein
Inhe dekh kar jee rahe hain sabhi
Inhe dekh kar jee rahe hain sabhi

Zulfein magrur itni ho jayengi
Zulfein magrur itni ho jayengi
Dil ko tadpayengi,
jee ko tarsayengi

ye kar dengi diwana
koi inko na batlana
ke inhe dekhkar pee rahein hain sabhi
inhe dekhkar pee rahein hain sabhi

saare inki shikayat karte hain
saare inki shikayat karte hain
phir bhi inse mohabat karte hain
ye kya jaadu hai jaane

phir chaak gire who diwaane
inhe dekhkar see rahe hain sabhi
inhe dekhkar see rahe hain sabhi

Ye reshmi Zulfein
Yeh Sharbati aankhein
Inhe dekh kar jee rahe hain sabhi
Inhe dekh kar jee rahe hain sabhi

रेशमी जुल्फें शरबती आंखें लिरिक्स

ये रेशमी जुल्फें
ये शरबती आँखें
इन्हें देखकर जी रहे है सभी
इन्हें देखकर जी रहे है सभी

ये रेशमी जुल्फें
ये शरबती आँखें
इन्हें देखकर जी रहे है सभी
इन्हें देखकर जी रहे है सभी

जो ये आँखे शरम से झुक जाएँगी
जो ये आँखे शरम से झुक जाएँगी
सारी बातें यहीं बस रुक जाएँगी
चुप रहना ये अफ़साना

कोई इनको ना बतलाना
के इन्हें देखकर पी रहे है सभी
इन्हें देखकर पी रहे है सभी

ये रेशमी जुल्फें
ये शरबती आँखें
इन्हें देखकर जी रहे है सभी
इन्हें देखकर जी रहे है सभी

जुल्फें मगरूर इतनी हो जाएँगी
जुल्फें मगरूर इतनी हो जाएँगी
दिल को तड़पाएँगी,
जी को तरसाएँगी

ये कर देंगी दीवाना,
कोई इनको न बतलाना
के इन्हें देखकर पी रहे हैं सभी
इन्हें देखकर पी रहे हैं सभी

सारे इनकी शिकायत, करते हैं
सारे इनकी शिकायत, करते हैं
फिर भी इनसे मोहब्बत करते हैं
ये क्या जादू है जाने,

फिर चाक गिरे वो दिवाने
इन्हें देखकर सी रहे हैं सभी
इन्हें देखकर सी रहे हैं सभी

ये रेशमी ज़ुल्फें
ये शरबती आँखे
इन्हें देखकर जी रहे हैं सभी
इन्हें देखकर जी रहे हैं सभी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *